देश का विकास - हम सब के आवास के साथ

Mar 24, 2017 4:30 IST 3366 views

https://youtu.be/yrqolfPKzoc

आज भारत के प्रगति के किस्से दुनिया भर में सुने जा रहे हैं| पर अभी भी हमारे देश में ऐसे बहुत से लोग हैं, जिनके पास अपना पक्का मकान नहीं है| यह एक गंभीर विषय है| आदरणीय प्रधान मंत्री जी नें भारत में एक एहम बदलाव लाने के लिए ‘हाउसिंग फॉर आल २०२२ तक’ की घोषणा की है| पिछले कुछ महीनो में सरकार ने अपने मिशन को सफल बनाने के लिए कई एहम कदम उठाये हैं, जैसे कि रियल एस्टेट क्षेत्र को 'इंफ्रास्ट्रक्चर स्टेटस' दिया है, सार्वजनिक क्षेत्र (पब्लिक सेक्टर )और इन्सुरेन्स कंपनियों को आधारिक संरचना (इंफ्रास्ट्रक्चर) में निवेश करने का आदेश  दिया है| हम, 'इंडिया इंफोलाइन होम लोन्स' सरकार के इस प्रगतिशील ‘हाउसिंग फॉर आल 2022 तक’’ मिशन में अपनी  एक प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं| चलिए देखे कैसे   - 


1. इस मिशन को ध्यान में रखकर हम देश की सामान्य जनता में  प्रधान मंत्री आवास योजना (शहरी)-क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (CLSS) के तहत गृह ऋण वितरण कर रहे हैं| अब तक हमने 2,200  से ज्यादा लोगो को इस स्कीम के तहत लाभ पहुँचाया हैं| ये लोग विभिन्न विभिन्न राज्यों के निवासी हैं| इस स्कीम के तहत इस समय अधिकतम रुपये 2,20,000 तक की व्याज सब्सिडी उपलब्ध है, जिससे सब्सिडी के बराबर की राशि कुल ऋण राशि से कम हो जाती है|  

2. हमने CLSS अभियान को जनता तक पहुँचाने के लिए दिल्ली/NCR में दस नुक्कड़ नाटक किये हैं| दर्शकों ने नाटक के दौरान अपनी खुशी का इजहार किया।

3. हमारे भारत देश में विभिन्न भाषाएँ बोली जाती हैं, इस बात को ध्यान में रखकर, हमने प्रचार सामग्री अलग अलग भाषाओं जैसे की हिंदी, बंगाली, मराठी, गुजरती, तेलगु में प्रकाशित कि हैं और सोशल मीडिया के जरिये सामान्य जनता में CLSS स्कीम का अभूतपूर्व तरीके से निरंतर प्रचार कर रहे हैं| 

4. हमने सोशल मीडिया अभियान के जरिये ये देखा कि बहुत से लोगों को इस स्कीम के बारे में जानकारी नहीं है| देश के हर कोने से ऐसे बहुत से सवाल आते जिसमे लोग व्याज सब्सिडी और पात्रता के बारे में जानना चाहते हैं| रोजाना हम लोगों के बहुत से प्रश्नों का जवाब देते हैं, ताकि वो इस योजना के तहत लाभार्थी बन पाएँ| 

5. हम अपने कर्मचारियों को इस स्कीम पर अपने कंपनी के अलग अलग सखाओं पर प्रशिक्षण दें रहें है, ताकि वो और भी लोगो को प्रशिक्षित कर सकें| हमने सूचना प्रसार के लिए पत्रक, बैनर, पोस्टर, स्टैंडियल्स विभिन्न विभिन्न भाषाओं में बनवाये हैं| हमने अपने प्रत्यक्ष बिक्री एजेंट्स (डायरेक्ट सेल्लिंग एजेंट्स) को भी पूर्ण रूप से प्रशिक्षित किया है|

6. भारत के विभिन्न आवास बोर्ड्स तथा विकास प्राधिकरण संस्थानों के साथ हमने समझौता ज्ञापन (मेमोरेंडम ऑफ़ अंडरस्टैंडिंग) साइन किया है| जिससे कि जो लोग अपने घर का सपना साकार करने के लिए राज्य हाउसिंग बोर्ड्स के पास जब आएं, तो हमारे रिप्रेजेन्टेटिव उन्हें प्रधान मंत्री आवास योजना-क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम कि जानकारी दें पाएँ| 

7. हम  १) राजस्थान आवास विकास, जयपुर, २) छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड, ३) प्रधान मंत्री आवास विकास योजना, इंदौर नगर निगम जैसे आवास बोर्डों के जरिये इस स्कीम का काफी प्रचार कर चुके हैं|

8. पिछले कुछ महीनो में हमने देश के विभिन्न विभिन्न जगहों, जैसे विरार और पुणे में इस स्कीम के प्रति जागरूकता फैलाई है| IIFL होम लोन्स के मुख्या कार्यकारी अधिकारी (मोनू रात्रा) अन्य उच्च पदाधिकारीयों के साथ  वहाँ पर जाकर प्रमुख रियल एस्टेट डेवेलपर्स से मिलें और CLSS & स्वराज होम लोन के बारें में उन्हें परिपुर्ण रूप से अवगत करवाया|

9. डिजिटल मीडिया के जरिये भी भारत के सामान्य जनता में इस स्कीम की जानकारी निरंतर दी जा रही है| आज के आधुनिक युग में, हमने अपनी वेबसाइट पर इस स्कीम पर ब्लॉग प्रकाशित किये  हैं| 

10. इसके अलावा हमने इंडिया इंटरनेशनल ट्रेड फेयर, प्रगति मैदान में अपनी स्टाल लगाकर  इसके के प्रति लोगों में जागरूकता और रूचि फैलाई  है|

ग्राहकों की सुविधा के लिए हमने एक CLSS सम्बंधित गृह ऋण टीम बनाई हैं| इस टीम के अलावा हम सब्सिडी वाली फाइलों को  सारे पात्रता अनुसार अपनी आंतरिक ऑडिट टीम से भी  जाँच करवाते हैं | 

     

    30 नवंबर, 2016 तक सरकार के आंकड़ों के मुताबिक 272.13 करोड़ रुपये की CLSS सब्सिडी पूरे भारत  में अनुदान  की गयी है| (goo.gl/MQl7x1) हमें यह कहते हुए अति प्रसन्नता हो रही हैं कि हमने भी इसमें एक एहम भूमिका निभाई है | हमारी निरंतर कोशिस रहेगी की हम शहरी समाज के लक्षित समूहों  में एक प्रगतिशील बदलाव ला सकें, जो कि हमारे देश के आर्थिक और सामाजिक प्रगति के लिए महत्वपूर्ण है|

    Request a Callback

    Submit

    Why take 4 or 6? Take 4+6 ! Subscribe to IIFL Bonds & get fixed yield of up to 10.5%* p.a.

    Subscribe Now

    May I Help You

    Submit